Basic Knowledge of Hindi Language

0 0
Read Time:2 Minute, 52 Second

हिंदी भाषा का बुनियादी ज्ञान:

  • सोरठा छन्न्द के लक्षण है – यह मात्रिक सम छन्न्द है। विषम चरण में 11 व सम चरण में 13 मात्राएं होती है। तुक विषम चरणों की मिलती है। यह छन्न्द दोहा का उल्टा होता है।
  • सोरठा का उदाहरण है –
  • अकबर समंद अथाह तहै डूबा हिन्दू तुरक
  • मेवाड़ों तिण मांह पोयण फूल प्रताप सी
  • चौपाई छंद के लक्षण है – यह मात्रिक सम छंद है। प्रत्येक चरण में 16 मात्रा और अंत में गुरु लघु न होते है
  • चौपाई का उदाहरण है –
  • सुनी जननी! सोह सुत बडभागी, जो पितृ मात वचन अनुरागी
  • तनय मात-पितृ तोखनहारा, दरलभ जननि! सकल संसारा
  • हरिगीतिका के प्रत्येक चरण में कितनी मात्राएं होती है – 28
  • वर्णिक छंद कौन-कौन से है – दु्रतविलम्बित, कवित्त, मंदाक्रांता
  • श्री गुरु चरन सरोज रज, निज मन मुकुर सुधारि… में छंद है – दोहा
  • कंकन किंकिन नूपुर धुनि सुनि, कहत लखन सन राम ह्दय गुनि में छंद है – चौपाई
  • संसार की समर स्थली में धीरता धारण करो चलते हुए निज दुष्ट पथ पर, संकटों से मत डरो में छंद है – हरिगीतिका
  • मेरी भव बाधा हरो, राधा नागरि सोय, जा तन की झांई परे, श्यामु हरित दु्रति होय में छंद है – दोहा
  • नील सरोरूह स्याम, तरून अरून वारिज नयन, करउ सो मम उर धाम, सदा छीरसागर सयन में छंद है – सोरठा
  • प्रबल जो तुम में पुरूषार्थ हो, सुलभ कौन तुम्हे न पदार्थ हो। प्रगति के पथ पर विचरो उठो, भुवन में सुख-शांति भरो उठो ॥ में छंद है – दु्रतविलम्बित
  • मत मुखर होकर बिखर यों, तू मौन रह मेरी व्यथा, अवकाश है किसको सुनेगा, कौन यह तेरी कथा। में छंद है – हरिगीतिका
  • “विलसता कटि में पट पीत था। रुचिर वस्त्र विभूषित गात था। लस रही उर में बलमाल थी। कल दुकूल अलंकृत स्कंध था” में छंद है – चौपाई
  • या लकुटी अरू कामरिया पर, राज तिहुं पुर को तजि डारो में छंद है – मतगयंद सवैया
  • रहिमन मोहि न सुहाय, अमिय पियावत मान बिनु, वरन विष देय बुलाय, मान सहित मरिबो भलो में छंद होगा – सोरठा
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.