हाथरस की निर्भया की दरिंदगी के 9 दिन बाद जुड़ी FIR में गैंगरेप की धारा

0 0
Read Time:5 Minute, 32 Second

हाथरस गैंगरेप पीड़िता के भाई ने पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। आजतक से बात करते हुए पीड़िता के भाई ने राज्य की भाजपा सरकार पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पुलिस ने दीदी के लिए एंबुलेंस भी नहीं बुलाई थी। बहन जमीन पर पड़ी थी। पुलिसकर्मियों ने कहा था कि उन्हें यहां से ले जाओ। यह बहाने पर पड़ा है।

उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर लगातार सवाल उठ रहे हैं. अपराधी बेखौफ वारदातों को अंजाम दे रहे हैं. उस पर निर्भया जैसी इस वारदात ने एक बार फिर पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगा दिए. वजह है इस केस में सामूहिक बलात्कार की धारा लगाने में हाथरस पुलिस ने 9 दिन का वक्त लगा दिया.

  • परिवार के सदस्यों ने पुलिस पर कई आरोप लगाए
  • पीड़िता के भाई ने कहा- पुलिस ने एंबुलेंस का आदेश नहीं दिया
  • दीदी को 22 सितंबर से अच्छा इलाज मिलना शुरू हो गया है ‘
  • पीड़ा के 15 दिन और जिंदगी की जंग हार गई हाथरस की निर्भया!
  • हाथरस गैंगरेप पर भारत बंद का ऐलान करें विपक्षी दलः जिग्नेश मेवाणी
  • हाथरस की निर्भया का भाई बोला- दीदी बेहोश थी, पुलिस ने कहा बहाने बनाकर लेटी हुई है

पीड़ित परिवार दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में धरने पर बैठा था। पुलिस उन्हें यहां से भी अपने साथ ले गई। परिजन सफदरजंग अस्पताल पर भी आरोप लगा रहे हैं। पीड़िता के भाई ने कहा कि पोस्टमॉर्टम किया गया है, लेकिन शव हमें नहीं सौंपा गया है। हमें कोई रिपोर्ट नहीं दी गई है।

उन्होंने कहा कि हमें एफआईआर के लिए 8-10 दिनों तक इंतजार करना पड़ा। रिपोर्ट दर्ज करने के बाद, पुलिस ने एक आरोपी को पकड़ा और दूसरे को रिहा कर दिया। आगे की कार्रवाई में प्रदर्शन के बाद और आरोपियों को घटना के 10-12 दिनों बाद गिरफ्तार कर लिया गया।

पीड़ित के भाई ने कहा कि पुलिसकर्मियों ने एम्बुलेंस को फोन नहीं किया। बहन जमीन पर पड़ी थी। पुलिसकर्मियों ने कहा था कि उन्हें यहां से ले जाओ। यह बहाने पर पड़ा है।

पीड़िता के भाई ने कहा कि दीदी का रक्तस्राव 10 से 15 दिनों तक नहीं रुका था। 22 सितंबर के बाद उन्हें अच्छा इलाज मिलने लगा। उसे लापरवाही बरती गई। उसे उचित उपचार नहीं दिया गया।

पीड़िता के भाई का कहना है कि उसे (पीड़ित को) सामान्य वार्ड में रखा गया था। हमें यूपी सरकार से न्याय की कोई उम्मीद नहीं है। भाजपा सरकार ने इस घटना पर कुछ भी नहीं कहा है। न ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने कुछ कहा है। परिवार के सदस्यों का कहना है कि वे न्याय चाहते हैं। आरोपियों को फांसी होनी चाहिए।

अलीगढ़ के डॉक्टर ने क्या कहा

पीड़िता को जेएन मेडिकल कॉलेज, अलीगढ़ से दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भेजा गया। आजतक से बातचीत में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जेएन मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल के डॉ। एमएफ हुड्डा ने बताया कि पीड़िता को 14 सितंबर की रात हमारे अस्पताल लाया गया था। उसके शरीर पर काफी चोटें आई थीं। उनकी रीढ़ टूट गई थी, जिसके परिणामस्वरूप पूरे शरीर का पक्षाघात हो गया था। डॉ। एमएफ हुड्डा ने कहा कि पीड़ित बेहोश था। वह आईसीयू में वेंटिलेटर पर थीं। हम उन्हें हर संभव इलाज दे रहे थे।

हाथरस की निर्भया की त्रासदी, दरिंदगी के 9 दिन बाद जुड़ी FIR में गैंगरेप की धारा

हाथरस की निर्भया के साथ जो हुआ, उसे लेकर पूरे देश में गुस्सा बढ़ता जा रहा है. वो लड़की 15 दिनों तक जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ती रही और आखिरकार मंगलवार की सुबह उसने इस दुनिया को अलविदा कह दिया. मरने से पहले हाथरस की निर्भया ने पुलिस को आरोपियों के नाम बताए. पुलिस ने एक-एक कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया. लेकिन पीड़िता के साथ दरिंदगी होने के बावजूद पुलिस ने गैंगरेप का मुकदमा लिखने में 9 दिन लगा दिए. उसका परिवार पुलिस से गुहार लगाता रहा लेकिन पुलिस ने 9 दिन तक रेप के मामले पर कोई कार्रवाई नहीं की.

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.